Current Affairs 03 April 2021

INR 5 करोड़ से अधिक कारोबार वाली संस्थाओं के बिलों में 6 अंकों वाला HSN कोड अनिवार्य हुआ।

  • क्या अनिवार्य हुआ: – “बिलों में 6-अंकों वाला HSN / SAC कोड
  • HSN /SAC पूर्ण फॉर्म: – हार्मोनाइज्ड सिस्टम ऑफ़ नोमन्क्लैचर / सर्विस एकाउंटिंग कोड
  • टर्नओवर सीमा: – 5 करोड़
  • कब से अनिवार्य : – 1 अप्रैल 2021

समाचार के बारे में अधिक जानकारी :-

1)HSN और SAC कोड दोनों का उपयोग GST शासन के तहत वस्तुओं और सेवाओं को वर्गीकृत करने के लिए किया जाता है।

2)वित्तीय वर्ष 2020-21 में  ₹5 करोड़ तक के कारोबार के साथ बी2बी बिलों पर 4-अंकीय HSN कोड प्रस्तुत करना आवश्यक होगा।

3)₹ 1.5 करोड़ से कम टर्नओवर वाले व्यापारियों को अपने वस्तुओं के लिए HSN कोड अपनाने की आवश्यकता नहीं है।

4)₹ 1.5 करोड़ और 5 करोड़ के बीच कारोबार वाले व्यापारी अपने वस्तुओं के लिए 2 अंकों के HSN कोड का उपयोग करते हैं।

स्थैतिक जागरूकता: –

1)केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) के अध्यक्ष –अजीत कुमार

2)CBIC मुख्यालय- नई दिल्ली

 

6-Digit HSN code mandatory in Invoices for Businesses with over INR 5 Crore Turnover.

  • What is going to Mandatory: – 6-Digit HSN/SAC Code in Invoices
  • HSN/SAC Full Form: – Harmonised System of Nomenclature Code/Service Accounting Code
  • Turnover Limit: – 5 Crore.
  • Mandatory From: – 1st April 2021

More About The News: –

1)Both HSN & SAC codes are used to classify goods & services under the GST regime.

2)Businesses with Turnover of up to INR 5 Crore in the Financial Year 2020-21 would be required to furnish 4-digit HSN code on B2B invoices.

3)Dealers with turnover of less than INR 1.5 Crore do not need to adopt HSN codes for their commodities.

4)Businesses with turnover between INR 1.5 Crore & 5 Crore use 2-digit HSN codes for their commodities.

Static Awareness: –

1)Central Board of Indirect Taxes and Customs (CBIC) Chairman –Ajit Kumar

2)CBIC Headquarters– New Delhi

 

 

Download PDF

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *